विश्व पर्यावरण दिवस पर भाषण Speech on World Environment Day in Hindi

विश्व पर्यावरण दिवस पर  भाषण  Speech on World Environment Day in Hindi)


सभी आदरणीय उपस्थित  प्रिंसिपल सर, मैडम एवं मेरे प्रिय दोस्तों आप सभी का विश्व पर्यावरण दिवस के शुभअवसर पर हार्दिक अभिनंदन एवं सुप्रभात। मेरा नाम .........................में अध्ययन करता हूं। आज, हम एक महत्वपूर्ण दिवस, विश्व पर्यावरण दिवस, मनाने के लिए यहाँ इकट्ठा हुए हैं। मैं इस अवसर पर विश्व पर्यावरण दिवस के इतिहास पर नजर डालते हुए एक भाषण प्रस्तुत कर रहा हूं। मैंने विशेष रूप से हमारे बेहतर भविष्य के लिए महत्वपूर्ण इस विषय को चुना है।

विश्व पर्यावरण दिवस, पर्यावरण से जुड़े मद्दों पर विचार करने एवं पर्यावरण जुड़ी समस्याओं का हल निकालने के लिए विशेष रूप से मनाया जाता है। इसे पर्यावरण दिवस, ईको डे या डब्ल्यूईडी के तौर पर भी जाना जाता है। यह एक महान वार्षिक आयोजन है जिसके दौरान हम पर्यावरण से जुड़े मुद्दों पर अपना ध्यान केंद्रित करते हैं और उन्हें पूरी तरह से हल करने की कोशिश करते हैं। यह अवसर वातावरण में सकारात्मक परिवर्तन लाने के उद्देश्य से बहुत सारे रचनात्मक गतिविधियों के साथ दुनिया भर में मनाया जाता है। विश्व पर्यावरण दिवस को मनाने के पीछे हमारा यही उद्देश्य होता है कि हम पृथ्वी पर प्राकृतिक पर्यावरण की हर संभव रक्षा करें ताकि स्वस्थ जीवन की संभावना पृथ्वी पर हमेशा बनी रहे।
वर्ष 1972 में घोषित होने के बाद यह 1973 से प्रतिवर्ष 5 जून को संयुक्त राष्ट्र महासभा द्वारा पर्यावरण में गिरावट के हालत के बारे में जानकारी देने एवं स्वच्छ पर्यावरण का महत्व लोगों को समझाने एवं इस बारे में वैश्विक जागरूकता बढ़ाने के उद्देश्य से मनाया जाने लगा। इस उत्सव की शुरूआत संयुक्त राष्ट्र संघ द्वारा आयोजित विश्व पर्यावरण सम्मेलन के उद्घाटन के दौरान पर्यावरण के महत्व के बारे में लोगों को बताने और पर्यावरण की रक्षा करने के उद्देश्य से प्रभावी योजनाओं को लागू करने के उद्देश्य से की गई थी। इस वार्षिक उत्सव को संयुक्त राष्ट्र द्वारा घोषित एक थीम (विषय) के अनुसार मनाया जाता है। इस उत्सव के दौरान पर्यावरण को बचाने के लिए प्रति वर्ष संयुक्त राष्ट्र संघ द्वारा प्रदत्त विषय के अनुसार कुछ नई एवं प्रभावी योजनाओं को लागू करने पर ध्यान केंद्रित किया जाता है।
मेरे प्यारे दोस्तों, इस उत्सव को दुनिया भर में 100 से अधिक देशों में मनाया जाता है क्योंकि पर्यावरण की समस्या कोई भी देश अकेले हल नहीं कर सकता। इसका वार्षिक आयोजन हर वर्ष संयुक्त राष्ट्र पर्यावरण कार्यक्रम (यूनाईटेड नेशन्स एनवायरमेंट प्रोग्राम) द्वारा संयुक्त राष्ट्र संघ द्वारा घोषित अलग-अलग मेजबान शहरों द्वारा किया जाता है। पहली बार इसका आयोजन 1973 में "केवल एक पृथ्वी" थीम (विषय) के साथ किया गया था। वर्ष 2016 में इस आयोजन का मेजबान अंगोला शहर था।
इस आयोजन का उद्देश्य दुनिया भर के विभिन्न देशों से लाखों लोगों, राजनीतिक एवं स्वास्थ्य संगठनों का ध्यान इस समस्या की ओर आकर्षित करना एवं इस समस्या से निपटने के लिए नई योजनाएं बनाना एवं योजनाओं को लागू कराना है। खाद्य पदार्थों का अपव्यय, ग्लोबल वार्मिंग, वनों की कटाई, प्रदूषण, औद्योगिकीकरण जैसी पर्यावरण को नुकसान पहुंचाने वाले कारकों को नियंत्रित करना बहुत जरूरी है। इस अवसर पर आयोजित कार्यक्रम के दौरान कार्बन तटस्थता, वन प्रबंधन, ग्रीनहाउस गैसों का नियंत्रण, जैव-ईंधनों के उत्पादन को प्रोत्साहित करना, बिजली पैदा करने के लिए पनबिजली संयंत्र का उपयोग, पानी गर्म करने के लिए सौर ऊर्जा का इस्तेमाल करने के लिए लोगों को प्रोत्साहित करना आदि गतिविधियों पर जोर दिया जाता है।
स्वस्थ पर्यावरण, खुशहाल भविष्य!
धन्यवाद!

Post a Comment

0 Comments