घरेलू काढा सर्दी जुकाम का दुश्मन।काढ़ा बनाने के लिए आवश्यक सामग्री:

घरेलू काढा सर्दी जुकाम का दुश्मन।काढ़ा बनाने के लिए आवश्यक सामग्री



सर्दीजुकाम और खांसी से बचाव के लिए काढ़ा बनाने का तरीका:
  1. एक कटोरा लें और उसमें पानी डालें. इसे उबाल लें.
  2. पानी में उबाल आने के बाद अदरक का रस और तुलसी के पत्ते डालें और आंच धीमी कर दें. बता दें कि तुलसी और अदरक का फ्लेवर अलग है.
  3. इसमें 2-3 मिनट के बाद लौंग के साथ काली मिर्च पाउडर में डालें.

सर्दी-खांसी हो जाए तो पूरा शरीर जकड़ सा जाता है। दवा लेने से फायदा तो तुरंत हो जाता है लेकिन इन दवाओं के कई साइड इफेक्ट भी होते हैं। वैसे भी हर बार दवा लेना सही नहीं है। बेहतर यही होगा कि सर्दी-खांसी के लिए घरेलू उपाय आजमाए जाएं। इनका कोई साइड इफेक्ट नहीं होता है और सर्दी जड़ से दूर हो जाती है।

काढ़ा बनाने के लिए आवश्यक सामग्री:

साफ पानी
काली तुलसी की पत्ती
लौंग
काली मिर्च
छोटी इलायची
अदरक
गुड़
चायपत्ती

विधि:
पानी गर्म होने के लिए रख दें। जब पानी उबलने लगे तब उसमें पीसी हुई लौंग, काली मिर्च, इलायची, अदरक, और स्वादानुसार गुड़ ड़ाल दें। थोड़ी देर बाद तुलसी की पत्तियां इसमें डाल दें। उसके बाद चायपत्ती। जब पानी आधा रह जाए तो गैस बंद कर दीजिए। पानी को छान लें।

इसे गर्म पीना ही फायदेमंद रहेगा। कुछ ही दिनों में इसके सेवन से सर्दी-खांसी दूर हो जाएगी।

काढ़ा पीने के फायदे

काढ़ा बनाना बहुत ही आसन होता है। काढ़ा एनर्जी ड्रिंक की तरह काम करता है। काढा बनाने के लिए लगने वाली सामग्री बाज़ार में आसानी से उपलब्ध है। काढ़ा सिर्फ सर्दी-ज़ुकाम से ही नही छुटकारा दिलाता बल्कि हमारे पाचन तंत्र को भी मज़बूत बनाता है।
तुलसीतुलसी में एंटी बैक्टीरियल, एंटी वायरल और एंटी कार्सिनोजेनिक गुण होते हैं। यह सर्दी – खांसी और सिरदर्द से भी निजात दिलाता है। तुलसी इम्युनिटी को भी बेहतर और मज़बूत बनाता है।
मुलेठी मुलेठी में एंटी बैक्टीरियल, एंटीवायरल गुण होते हैं जो जीवाणुरोधी होते हैं और सर्दी- ज़ुकाम से निजात दिलाते हैं।
काली मिर्चकाली मिर्च में एंटी बैक्टीरियल गुण होते हैं और यह सर्दी ज़ुकाम से निजात दिलाने में सक्षम है।
अदरक और दालचीनी भी गले की खराश से छुटकारा दिलाने में कारगर हैं।

Post a Comment

0 Comments