सहजन की पत्तियों के फायदे और नुकसान – Drumstick (Moringa) Leaves Benefits in Hindi

सहजन की पत्तियों के फायदे और नुकसान Drumstick (Moringa) Leaves Benefits in Hindi



मोरिंगा को ‘ड्रमस्टिक’ या मुनगा के नाम से भी जाना जाता है। यह (मोरिंगा ओलीफ़ेरा) एक उष्णकटिबंधीय पेड़ है और भारत और अफ्रीका के कुछ हिस्सों में इसकी खेती होती है। मोरिंगा पौधे की पत्तियों का औषधीय महत्व है। ड्रमस्टिक के पेड़, बीज, फली, फल (जिसे ड्रमस्टिक के रूप में जाना जाता है) और फूलों सभी में औषधीय गुण होते हैं। पत्तियों में प्रोटीन होता है जो आमतौर पर किसी अन्य पौधे में नहीं पाया जाता है। वे गर्भवती महिलाओं के लिए एक अच्छी दवा हैं।
आपको यह जानकर आश्चर्य होगा कि दक्षिण भारतीय भोजन में आमतौर पर इस्तेमाल होने वाली यह हरी जड़ी-बूटी वास्तव में एक शक्तिशाली सुपरफूड है।
मोरिंगा की पत्तियां प्रोटीन का उच्च स्रोत हैं। इनमें सभी आवश्यक अमीनो एसिड होते हैं। सहजन की पत्तियां विशेष रूप से पोटेशियम, कैल्शियम, फॉस्फोरस, लोहा, विटामिन ए, डी, सी से समृद्ध हैं। मोरिंगा की पत्तियां हृदय रोगों, मधुमेह और सूजन संबंधी विकारों से निपटने में मदद करती हैं।

सहजन की पत्तियों के मुख्य तथ्य


  • सहजन की पत्तियों में पालक की तुलना में तीन गुना अधिक आयरन होता है।
  • मोरिंगा में फाइबर अधिक होता है जो आपको अधिक समय तक भरा हुआ रखने में मदद करता है।
  • सहजन के पेड़ का हर हिस्सा स्वास्थ्य लाभ प्रदान करता है।
  • मोरिंगा की पत्तियां पौष्टिकता के मामले में गाजरसंतरे और यहां तक कि दूध को पीछे छोड़ते हुए पोषण से भरपूर होती हैं।
  • जब उनके प्राकृतिक रूप में सेवन किया जाता है, तो सहजन की पत्तियों का कोई दुष्प्रभाव नहीं होता है। सहजन के पत्तों के स्वास्थ्य लाभों के बारे में और जानने के लिए आगे पढ़ें।

सहजन की पत्तियों के फायदे – Drumstick Leaves Benefits In Hindi

अपनी उच्च एंटीऑक्सिडेंट सामग्री के कारण, मोरिंगा के पत्ते लिपिड पेरोक्सीडेशन और यकृत विकारों को रोक सकते हैं। वे हीमोग्लोबिन और माताओं में दूध के उत्पादन को भी बढ़ावा देते हैं। आइये जानतें हैं सहजन की पत्तियों के फायदे क्या हैं और वे हमें क्या स्वास्थ्य लाभ देते हैं।

पोषक तत्वों का भंडार हैं सहजन की पत्तियां

सहजन की पत्तियों में केले की तुलना में सात गुना अधिक पोटेशियम होता है और दूध में मोजूद प्रोटीन से दोगुना प्रोटीन इसमें होता है। मोरिंगा की पत्तियां विटामिन ए, सी, बी 1 (थियामिन), बी 2 (राइबोफ्लेविन), बी 3 (नियासिन), बी 6 और फोलेट से भरपूर होती हैं। यह कैल्शियम, मैग्नीशियम, लोहा, मैंगनीज, फास्फोरस और विटामिन ए, ई और के जैसे खनिजों में भी समृद्ध है।
एक कप मोरिंगा के पत्तों में –
  • 2 ग्राम प्रोटीन
  • मैग्नीशियम (RDA का 8 प्रतिशत)
  • विटामिन B6 (RDA का 19 प्रतिशत)
  • आयरन (RDA का 11 प्रतिशत)
  • राइबोफ्लेविन (RDA का 11 प्रतिशत) और
  • विटामिन A (RDA का 9 प्रतिशत) होता है।

Post a Comment

0 Comments